“Ab mat poochnaa kaun ho tum”

Dil ki kitaab Mein likhe kuch alfaaz,

Aur un alfaazon ki dhadkan ho tum,

Ab mat poochna kaun ho tum…?

दिल की किताब में लिखे कुछ अल्फ़ाज,
औऱ उन अल्फ़ाज़ों की धड़कन तुम हो,
अब मत पूछना कौन हो तुम…?

Shabdsiyapaaa©

Advertisements

” Dreams “

Dreams To
To do something in life,
To become something in life,
To fly high and touch the heights,
To Make fate with own hands,
To achieve success on its own…

Shabdsiyapaaa©

Only Kabir ©

“भरोसा खुद पर करों”

किस्मत को कोसते कोसते उम्र खत्म हो ही जाती है,
पर इरादों के सामने अक्सर किस्मत भी झुक जाया करती है…।

यूँ दुसरो के सहारे ज़िन्दगी कट ही जाती है,
अगर भरोसा खुद पर हो तो ज़िन्दगी हसीन बन जाती है…।

सोच में इतना डूबकर हम सारे मोके गवा देते है,
अगर कुछ करने की चाह हो तो कई राहें खुल ही जाती है…।

कर खुद पर भरोसा लकीरो पर नही,
किस्मत तो उनकी भी बेहतरीन है जिनके हाथ नही…।

Shabdsiyapaaa©

” Hum Unme Se Nahi “

Aaj wo kuch badle badle se lag rahe the,
Isliye hum bhi unse zara pooch bethe,
Sach sach batana kahi waqt se mulaqat to nahi ki,
Kyunki waqt ke sath log badal jaya karte hai…

Unka bhi kya haseen jawab aaya..

Ki waqt ke sath aksar log badal jaya karte hai,
Par wo jo shiddat se jyada khayalo ko tawajjo dete hai..
Aur Hum unme se nahi…

Shabdsiyapaaa©

Create a website or blog at WordPress.com

Up ↑